फास्टैग क्या है और ये कैसे काम करता है | Recharge Online

फास्टैग क्या है और ये कैसे काम करता है | Recharge Online

फास्टैग क्या है और ये कैसे काम करता है | Recharge Online

फास्टैग क्या है और ये कैसे काम करता है | Recharge Online

फास्टैग क्या है ( FASTag in Hindi )

FASTag Details In Hindi : Tool प्लाजाओं पर Toll Collection System से होने वाली समस्या के समाधान के लिए “National Highway Authority of India” ( भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण ) ने “Electronic toll collection” (इलेक्ट्रॉनिक टोल संग्रह) सिस्टम FASTag QR Code System शुरू किया है | जिसे इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन सिस्टम या फास्टैग स्कीम के नाम से जाना जाता है | फास्टैग एक उपकरण होता है जो वाहन के सामने वाले कांच पर लगाया जाता है | अर्थात फास्टैग टोल कार्ड है फास्टैग में रेडियो फ्रिकवेंसी आईडेंटिफिकेशन (RFID) / सेंसर लगा होता है | जो टोल प्लाजा के संपर्क में आते ही आपके अकाउंट ( FASTag Account ) से शुल्क काट लिया जाता है | फास्टैग सिस्टम की मदद से आप टोल प्लाजा में बिना रूके अपना टोल प्लाजा टैक्स दें सकेंगे | इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन सिस्टम या फास्टैग स्कीम भारत में सबसे पहले 2014 में शुरू की गई जिसे धीरे धीरे पूरे देश के टोल प्लाजा के ऊपर लागू किया जा रहा है |

 

भारत में कब शुरू हुआ फास्टैग (When Start FasTag in India)

भारत में ये सिस्टम सबसे पहले अहमदाबाद और मुंबई हाईवे के बीच 2014 में शुरू किया गया था. जुलाई 2015 में इसे चेन्नई-बेंगलुरु टोल प्लाजा पर शुरू किया गया था. अभी तक देश के 332 टोल प्लाजाओं पर इस सुविधा को शुरू कर दिया गया है. यानी इन टोल प्लाजाओं में आप फास्टैग के जरिए टोल टैक्स का भुगतान कर सकते हैं

फास्टैग कैसे काम करता है ( How To Work Fastag or Electronic Toll Collection )

FASTag Kese Kam Karta Hai : वाहन के सामने वाले काँच पर फास्टैग स्टीकर / लोगो / कार्ड या चिप लगाई जाती है जिसमे रेडियो फ्रिक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (आरएफआईडी) लगा होता है | जैसे ही गाड़ी टोल प्लाजा के संपर्क में आती है टोल प्लाजा पर लगे सेंसर FASTag QR Code / FASTag Bar Code मदद से टोल टैक्स आपके फास्टैक अकाउंट से उस टोल प्लाजा पर लगने वाला शुल्क काट देता है | अर्थात आपके बिना रुके ही Automatically प्लाजा टैक्स का भुगतान FASTag Account से हो जाता है |

 

फास्टैग के फायदे ( Benefits of FasTag or ETC)

सड़क एवं परिवहन मंत्रालय ने टोल प्लाजा में टोल टैक्स देने के कारण लगने वाली गाड़ियों की लम्बी लाइन और खुले पैसे होने की समस्या को हल करने के लिए फास्टैग सिस्टम को देश के कई टोल प्लाजाओं पर शुरू किया है. फास्टैग की मदद से आपका समय बचने के साथ-साथ आपके पेट्रोल या डीजल की भी बचत होगी. इतना ही नहीं साल 2016-17 के बीच इसका इस्तेमाल करने वाले लोगों को सभी टोल भुगतानों पर 10% का कैशबैक भी मिलेगा. वहीं 2017-2018 के बीच आपको 7.5 %, कैश बैक 2018-2019 के बीच 5 % कैश बैक और 2019-2020 तक 2.5 %  कैश बैक मिलेगा. आपका ये कैश बैक एक सप्ताह के भीतर आपके फास्टैग खाते में आ जाएगा. अभी तक फास्टैग केवल भारत के चुनिंदा शहरों के टोल प्लाजा पर ही लागू था. मगर इसके सफल होने के बाद सड़क एवं परिवहन मंत्रालय द्वारा इसे जल्द ही देश के हर टोल प्लाजा पर शुरू करने की कोशिश की जा रही है.

 

फास्टैग कहाँ से ले ?

FASTag Ka Kaha Se Le FASTag Kab Se Lagu Hoga : सड़क एवं परिवहन मंत्रालय द्वारा जब फास्टैग अनिवार्य किया गया तब आदेश जारी कर जानकारी दी की किसी भी पॉइंट ऑफ सेल (POS) के अंदर आने वाले टोल प्लाजा और एजेंसी में जाकर या टैग जारीकर्ता आधिकारिक या सहभागिता बैंक से फास्टैग स्टीकर ( FASTag Sticker / FASTag Card / FASTag Chip ) और फास्टैग अकाउंट ( FASTag Account ) खुलवा सकते हैं | केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने हालही में सूचना दी है की अब से फास्टैग पेट्रोल पंपों पर उपलब्ध होंगे |

 

फास्टैग लेने के लिए आवश्यक डाक्यूमेंट्स ( FASTag Documents )

  • वाहन के पंजीकरण प्रमाण पत्र (आरसी)
  • वाहन मालिक के पासपोर्ट फोटो
  • वाहन मालिक के केवाईसी दस्तावेज और एड्रेस प्रूफ
  • वाहन मालिक का आधार कार्ड
Tech News